इतिहास

मासिक शिवरात्रि : कल करे ये उपाय विवाह में आ रही बाधाओं से मिलेगा छुटकारा

दिसंबर माह की शुरुआत आज से हो चुकी है और नए महीने में व्रतों और त्योहारों का भी सिलसिला शुरू हो गया है. वैसे तो मार्गशीर्ष माह ही चल रही है. मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी के दिन मासिक शविरात्रि मनाई जाती है. इस बार 2 दिसंबर, गुरुवार के दिन मासिक शिवरात्रि का व्रत किया जाएगा. इस दिन माता पार्वती और शिव जी दोनों की पूजा की जाती है. इस दिन रात्रि पूजा का विशेष महत्व है.

मान्यता है कि इस दिन रात के समय सोना नहीं चाहिए. शिवरात्रि के व्रत के दिन रात में जागरण कर भगवान शिव की उपासना की जाती है. ऐसा करने से व्यक्ति के बड़े से बड़े काम भी बन जाते हैं. कहते हैं कि जिन लोगों को विवाह में बाधाएं आ रही हैं, और वैवाहिक जीवन कष्टमय हो रहा है, ऐसे लोगों को भी मासिक शिवरात्रि का व्रत रखने की सलाह दी जाती है. मान्यता है कि मासिक शिवरात्रि के दिन महादेव और माता पार्वती की पूजा-अर्चना करने से विवाह से जुड़ी तमाम समस्याओं से छुटकारा मिलता है. आइए जानते हैं मासिक शिवरात्रि के दिन किन उपायों को किया जा सकता है.

अगर आप शादी के लिए योग्य पार्टनर की तलाश कर रहे हैं, तो शिवरात्रि के दिन विधि पूर्वक भगवान शिव और पार्वती का व्रत और पूजन करने से लाभ होगा. फिर रूद्राक्ष हाथ में लेकर‘ॐ गौरी शंकर नमः’ मंत्र का जाप कम से कम 108 बार करें. इसके बाद रुद्राक्ष को गंगाजल से साफ करके लाल धागे में डालकर धारण कर लें. इसे तब तक धारण करना है जब तक मनोकामना पूरी न हो जाए. रात में भी शिव और पार्वती के इस मंत्र का जाप करने से जल्द ही मनोकामना पूर्ण होगी.

 

अगर किसी व्यक्ति के वैवाहिक जीवन में किसी तरह की कोई समस्या आ रही है, तो मासिक शिवरात्रि के दिन शिव-पार्वती की शादी की तस्वीर घर में लाकर पूजा के स्थान पर लगाएं. इस तस्वीर की नियमित रूप से पूजा करें और रुद्राक्ष की माला से ‘हे गौरी शंकर अर्धागिंनी यथा त्वं शंकर प्रिया तथा माम कुरू कल्याणी कान्त कान्ता सुदुर्लभम्’ मंत्र का 108 बार जाप करें. नियमित रूप से ऐसा करने से जीवन में सभी समस्याओं का अंत होगा.

 

अगर विवाह को लेकर बार-बार किसी तरह की अड़चन आ रही है, तो शिवरात्रि के दिन भगवान शिव के मंदिर में 5 नारियल ले जाएं. शिवलिंग के समक्ष आसन पर बैठें और शिव जी का जलाभिषेक करें. उन्हें चंदन, पुष्प, धतूरा आदि अर्पित करें. इसके बाद ‘ॐ श्रीं वर प्रदाय श्री नमः’ मंत्र का 5 माला जाप करें. इसके बाद सभी नारियल शिव जी को अर्पित कर दें. इससे विवाह में आ रहीं अड़चनें कुछ ही समय में दूर हो जाएंगी. 

Leave Your Comment

Click to reload image